2019 लोकसभा चुनाव में न फैले अफवाह इसलिए फेसबुक ने उठाए कड़े कदम

---Ads----

2019 चुनाव को लेकर पार्टियां ही नहीं सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक भी एक्टिव हो गया है। फेसबुक अब यहां पर फैलने वाली अफवाहें और झूठी खबरों को रोकेगा। यह फैसला आगामी 2019 में होने वाले लोकसभा चुनावों को देखते हुए लिया गया है। फेसबुक अपने यहां होने वाले पोस्ट, वीडियो के तथ्यों की जांच भी करेगा। अगर वह गलत पाए जाते हैं तो उन्हें फेसबुक से तत्काल हटा दिया जाएगा। ऐसा इसलिए किया जा रहा है ताकि 2019 में होने वाले लोकसभा चुनावों को कोई प्रभावित न कर सके।

बता दें कि फेसबुक पर एक बड़ा तबका ऐसा है जो लोगों को डायवर्ट करने का काम करता है। खासतौर पर यह चुनाव के दौरान ज्यादा एक्टिव हो जाता है। और अपनी फेक न्यूज और वीडियो के माध्यम से लोगों को बहकाने का काम करता है। इसे रोकने के लिए फेसबुक ने कड़े कदम उठाए हैं। फेसबुक पर फेक कंटेंट पाए जाने पर उसे ब्लॉक भी कर दिया जाएगा।

फेसबुक एक ऐसा सिस्टम लागू कर रहा है कि जो भी कंटेंट यहां प्रचार और प्रसार के लिए डाला जाएगा उसे यह सिस्टम खुद से उसे सत्यापित करेगा। यह सिस्टम ऑटोमेटिक उस सामग्री की जांच करेगा। जानकारी के मुताबिक प्रचार प्रसार के लिए फेसबुक पर डाली गई सामग्री को चुनाव आयोग के पास भी जांच के लिए भेजा जाएगा। यही नहीं इसके अलावा ट्विटर और व्हाट्सएप भी फेक न्यूज रोकने के लिए कड़े कदम उठा रहे हैं।

देश की सत्ताधारी पार्टी भाजपा भी परेशान है

पीएम मोदी, अमित शाह

पीएम मोदी, अमित शाह
बता दें कि सोशल मीडिया में फैल रही झूठी खबरों से आम आदमी ही नहीं, देश की सत्ताधारी पार्टी भाजपा भी परेशान है। भाजपा का कहना है कि साजिशन कुछ लोग सोशल मीडिया पर पार्टी और सरकार के बारे में गलत प्रचार कर रहे हैं। इन ‘फेक’ खबरों से पार्टी को बचाने के लिए और जनता तक ‘सच’ पहुंचाने के लिए पार्टी एक रणनीति के तहत दिल्ली में अपने कुछ कार्यकर्ताओं की एक टीम तैयार कर रही है जो सरकार के कामों की सही जानकारी सोशल मीडिया के माध्यम से जनता तक पहुंचाएगी।

केंद्रीय आईटी टीम से अलग करेगी काम

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने पिछले दिनों दिल्ली में पार्टी के एक कार्यक्रम में इस परेशानी का जिक्र किया था। उसके बाद केंद्रीय आईटी टीम इस मुद्दे पर सक्रिय हुई और तब से लगातार सोशल मीडिया पर सरकार के कामों की जानकारी दे रही है।

लेकिन यह नई टीम पूरी तरह दिल्ली के लोगों को ध्यान में रखकर बनाई गई है। पार्टी का मानना है कि दिल्ली में पूरे देश के लोग रहते हैं और अगर वह यहां के लोगों तक अपनी पहुंचाने में सफल हो जाती है तो उसका असर पूरे देश में पहुंच जाएगा। जानकारी के मुताबिक यह नई टीम दिल्ली प्रदेश भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी की पहल पर बनाई गई है और यह टीम पूरी तरह उनकी निगरानी में काम करेगी।

कैसे करेगी काम दिल्ली आईटी टीम

दिल्ली भाजपा की आईटी टीम से जुड़े एक कार्यकर्ता ने बताया कि ‘नरेंद्र मोदी 2019 तक’ की थीम के साथ 7 जुलाई से यह टीम काम करना शुरू करेगी। इसके कार्यकर्ताओं को जानकारी देने के लिए शनिवार को एक कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया है जिसमें आईटी के कुछ तकनीकी पेशेवरों के अलावा पार्टी के केंद्रीय टीम के कुछ नेता भी शिरकत कर सकते हैं। जानकारी के मुताबिक इस टीम के कार्यकर्ता सरकार की योजनाओं के असली लाभार्थियों को सामने लाकर उनके माध्यम से मोदी सरकार की योजनाओं की जानकारी लोगों तक पहुंचाएगी।

---Ads----

Comments