एक लाख ‘आयुष्मान मित्र’ की होगी भर्ती, पांच साल में दो लाख नौकरियां

---Ads----

केंद्र सरकार की आयुष्मान भारत योजना के तहत पांच साल में करीब 2 लाख नौकरियों का सृजन होगा. इसके तहत एक लाख ‘आयुष्मान मित्र’ की भर्ती की जाएगी, जिन्हें 15 हजार रुपये की सैलरी मिलेगी.

केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी आयुष्मान भारत योजना के द्वारा अगले पांच साल में 2 लाख नौकरियों का सृजन हो सकता है. स्वास्थ्य मंत्रालय के एक आकलन में यह जानकारी सामने आई है. आयुष्मान भारत के सीईओ के अनुसार इसके तहत एक लाख ‘आयुष्मान मित्र’ की भर्ती की जाएगी.

यह नौकरियां अस्पतालों, बीमा कंपनियों, कॉल सेंटर, रिसर्च सेंटर आदि जगहों पर तैयार होंगी. आयुष्मान भारत के सीईओ डॉ. इंदु भूषण ने हमारे सहयोगी प्रकाशन मेल टुडे को बताया, ‘ स्वास्थ्य मंत्रालय का मानना है कि इस योजना से लोगों के लिए करीब 2 लाख नई नौकरियों का सृजन होगा. इसमें से करीब एक लाख भर्ती आयुष्मान मित्र  होगी.’

एक लाख आयुष्मान मित्र, 15 हजार होगी सैलरी

उन्होंने कहा कि आयुष्मान मित्र की नियुक्तियों से सरकार के लिए योजना की सहजता से निगरानी, मूल्यांकन और उसे लागू करना आसान होगा. उन्होंने कहा कि आयुष्मान मित्र को सरकारी और निजी अस्पतालों में तैनात किया जाएगा और उन्हें हर महीने 15 हजार रुपये का भुगतान मिलेगा. इनको समुचित तरीके से प्रशिक्षण दिया जाएगा, ताकि वे योजना के बारे में अच्छी जानकारी हासिल कर सकें.

 

आयुष्मान भारत केंद्र सरकार की राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा योजना के तहत शुरू हो रही पीएम मोदी की एक महत्वाकांक्षी योजना है. इसके तहत 10 करोड़ गरीब एवं वंचित परिवारों को सालाना 5 लाख रुपये तक की स्वास्थ्य बीमा मुहैया की जाएगी. इस तरह इस योजना से करीब 50 करोड़ लोगों को फायदा मिलेगा. इस योजना का ऐलान केंद्रीय बजट 2018-19 में किया गया था.

डॉ. इंदु ने बताया कि आयुष्मान मित्रों को प्रशि‍क्षण देने के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय और कौशल विकास मंत्रालय के बीच एक समझौते पर दस्तखत हुए हैं. पहले चरण में इस वित्त वर्ष के अंत तक ही करीब 10,000 आयुष्मान स्वयंसेवकों की नियुक्ति हो जाएगी. इसके अलावा, निजी क्षेत्र में करीब 60,000 नौकरियों का सृजन हो जाएगा.

उन्होंने दावा किया कि यह दुनिया का सबसे बड़ा सरकारी फंड वाला स्वास्थ्य बीमा कार्यक्रम है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस प्रोजेक्ट के लिए 10,000 करोड़ रुपये का आवंटन किया है.

---Ads----

Comments